हर गृहिणी को रसोई में मदद कर शकते है ये नुस्खे, आजमाए और इस लिंक को जरुर संजोए रखे।।।

हर गृहिणी को रसोई में मदद कर शकते है ये नुस्खे, आजमाए और इस लिंक को जरुर संजोए रखे।।।

आज यहाँ कुछ ज्यादा उपयोगी हो शके ऐसे रसोई के नुस्खे हम आपके लिए लेकर आये है। में रोज अपने कार्य में इन नुस्खो का उपयोग करती हूँ। आशा करते है की आपके लिए भी यह उपयोगी हो।।।

१. कोल्ड कोफ़ी बनाते वक्त अगर उसमे हम बरफ मिलाएं तो कोफ़ी में पानी के मिलने से स्वाद थोडा अलग हो जाता है और ऐसा न हो इसलिए पहले से ही एक आइस ट्रे में कोफ़ी बनाकर फ्रीजर में रख लें। और जब कोल्ड कोफ़ी बनानी हो तब उसी कोफ़ी के टुकडो का प्रयोग करे और देखे कोफ़ी का टेस्ट कितना अच्छा हो जाता है।

२. कोल्ड कोफ़ी में हमेशा सिर्फ शीत दुग्ध का ही प्रयोग करे और एक चम्मच ताजा मलाई और एक चम्मच कोको पावडर मिलाने से आपकी कोफ़ी भी बहार मिलने वाली जाग वाली बनेगी।

image source

३. चोली, गवार, फनसी और तिन्डोले जैसी सब्जी को धो कर कोरा कर काट लें। फिर हवा चुस्त डब्बे में भरकर रख दे। यह कटी हुई सब्जिया 4-5 दिन तक अच्छी रहेती है। बच्चो के टिफिन के लिए या फिर कोई गेस्ट आने वाले हो तब आगे से तैयारिया कर लेने से काम सरल हो जाता है।

४. भिंडी की सब्जी सुबह काटने में अधिक समय निकल जाता है। अगर आप अगले दिन ही उसे धोकर कपडे से साफ़ कर लें और फिर काट कर उन्हें कोटन के कपडे में लपेट कर फ्रिज में रख दे। इससे भिंडी में पानी भी नहीं होगा और वह ताजे एवं कोरे रहेते है।

५. भिंडी की सब्जी में एक चम्मच दही या निम्बू मिलाने से सब्जी चिकनी नही होगी, ज्यादा क्रिस्पी और सब्जी का रंग हरा ही रहेगा। जब तड़का लगाये तब 2-3 मिनिट तक तेज आंच में मिक्स करे और नमक को भी मिलाएं। यह करने से भिंडी ज्यादा क्रिस्पी हो जाती है।

६. कोई भी तीखी ग्रेवी वाली सब्जी में कसूरी मेथी को क्रस कर के मिलाने से रंग अच्छा पकडता है और साथ ही साथ स्वाद में भी सब्जी बहोत स्वादिष्ट बन जाती है।

image source

७. कोई भी ग्रेवी बच जाती है तो उसे बरफ की ट्रे में भरकर उसे फ्रीजर में रख दे। जब वह जम जाये तो उसे ट्रे से निकाल कर ज़िपलोक वाले पाउच में रख लें। जब जरुरत हो तब उसे उपयोग में लिया जा शकता है।

८. ग्रेवी की मात्रा बढ़ाने के लिए हमेशा पानी को उबालकर ही उसमे मिलाएं, जिससे ग्रेवी का स्वाद बरकरार रहे।

९. चीज़ और बटर जब ठंडे हो तब उन्हें छिल ले, जिससे अच्छी तरह से उन्हें छिला जा शकता है।

१०. रसाल सब्जी में या दाल में अगर नमक ज्यादा पड जाएँ तो आलू को काट कर उसमे मिला दें। 5-10 मिनिट पकाए जिससे अधिकतर नमक आलू में आ जायेगा। फिर आलू को उसमे से निकाल लें। सब्जी और दाल का स्वाद सही हो जायेगा। कई लोग रोटी के गुल को भी मिलाकर निकाल लेते है जिससे अधिकतर नमक निकल जाता है।

११. सिंग दाने स्टोर करने से पहले एक कढाई में रखकर 3-4 मिनट के लिए उन्हें शेक ले और ठंडा होने के बाद उसे संभाल कर रख लें। जिससे वह कभी ख़राब नहीं होंगे।

image source

१२. सब्जी को हमेशा तड़का लगाकर ढक दें (भिंडी के सिवाय)। ढक्कन पर थोडा पानी रख कर पकने दे, जिससे उसके पोषकतत्व बरकरार रहेते है।

१३. कटलेट और टिक्की को फ्राय करने से पहले कुछ देर तक उन्हें फ्रिज में रख ले जिससे वह तेल कम प्रयोग करेगा और क्रिस्पी भी बनेगा।

१४. दाल और कढ़ी बनाते समय चमचा उसमे ही रहेने दे जिससे वह उस पात्र से बहार नहीं छलकेगा।

१५. निम्बू से ज्यादा रस निकालने से पहले उसे हथेली में रखकर रगड़ ले और फिर काट लें, रस ज्यादा निकलेगा।

१६. पकोड़े बनाते वक्त खीरे में एक चम्मच उबला हुआ तेल डालने से वह नरम बनेंगे।

१७. रोटियाँ, थेपले, भाखरी या पराठे की कणक बच जाएँ तो तेल लगाकर उन्हें हवा चुस्त डब्बे में फ्रिज में रख दे।

१८. बिरयानी बनाने हेतु ब्राउन प्याज को पकाने के लिए 1 चम्मच शक्कर मिलाने से जल्दी से वह ब्राउन और क्रिस्पी बनेंगे।

१९. इडली-ढोसे का खीरा बनाते वक्त एक मुठ्ठी भिगाए हुए पहुए डालने से इडली ज्यादा सॉफ्ट और ढोसे ज्यादा क्रिस्पी बनती है।

२०. घेहू की तीखी कडक पुरी बनाते वक्त उसकी कणक उबले पानी से बांधे। पूरी ज्यादा क्रिस्पी बनती है।

image source

२१. पूरी के भटूरे बनाते वक्त एक चमच रवा मिलाने से वह वधु क्रिस्पी और अच्छी बनेंगी।

२२. किसी भी चटनी में एक चम्मच तेल मिलाने से उनका स्वाद और रंग लंबे समय तक बरकरार रहेता है।

२३. थेपले के आटे में अजवाईन का क्रस डालने से वह वधु स्वादिष्ट बनते है।

२४. सुखडी बनाते वक्त घिहू का बारीक़ और घाढा दोनों आटे मिलाने से सुखडी अच्छी और कुरकुरी बनती है।

२५. रोटी और भाखरी में १ चमचा गुनगुना दुग्ध मिलाने से वह ज्यादा नर्म और स्वादिष्ट बनेंगे।