केसर के फायदे – आज हम आपको इससे होने वाले लाभ के बारे में बताते हैं

जानें केसर के फायदे : जो कई बीमारियों में लाभदायक है। कितनी छोटी और बड़ी बीमारियों को केसर के इस्तेमाल से ठीक किया जा सकता है, आइए आज हम आपको इससे होने वाले लाभ के बारे में बताते हैं हमने अक्सर कई जगहों पर साबुन, हेयर कंडीशनर, फेस वॉश आदि टीवी विज्ञापनों में केसर के लाभ के बारे में सुना है। आपने केसर के बारे में अक्सर सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आयुर्वेद में केसर का इस्तेमाल कई बीमारियों की दवा के रूप में भी किया जाता है। आयुर्वेद के अनुसार, केसर कई तरह की बीमारियों को ठीक कर सकता है। केसर आपके लिए कई तरह से फायदेमंद हो सकता है।

भारतीय चिकित्सा शास्त्र यानि आयुर्वेद में केसर के अनेक गुणों का वर्णन किया गया है। केसर में कई औषधीय तत्व होते हैं जो हमारे शरीर को पूरी तरह से स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। केसर खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों को रंगीन बनाने के साथ-साथ सुगंधित भी बनाता है। केसर की 5 से 20 पंखुड़ियां प्रतिदिन इस्तेमाल की जा सकती हैं।

चेहरे की सुंदरता के लिए:

image source

केसर त्वचा को सुंदर बनाता है। केसर के इस्तेमाल से चेहरा चमक उठता है और साथ ही चेहरे का रंग भी निखर जाता है। चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने के लिए केसर को नारियल तेल या देसी घी के साथ घिसकर चेहरे पर लगाया जाता है। मलाई के साथ चेहरे पर रगड़ने से भी चहेरे की रंगत निखारती है। आजकल केसर को चेहरे की सफेदी के लिए कई संसाधनों में भी इस्तेमाल किया जाता है।

पेट दर्द से छुटकारा:

पेट दर्द होने पर 5 ग्राम पिसी हुई हींग, 5 ग्राम केसर, 2 ग्राम कपूर, 25 ग्राम पिसा हुआ जीरा, 5 ग्राम काला नमक, 5 ग्राम सेंधा नमक, 100 ग्राम छोटी हरड़, 25 ग्राम वायविडंग के बीज, 25 ग्राम अजवाइन को एक साथ पीसकर इस चूर्ण को संभाल कर रख ले। अब पेट दर्द के समय इस चूर्ण को आधा चम्मच गर्म पानी (सेवन) के साथ लेने से पेट दर्द में राहत मिलती है।

नर्वस सिस्टम कार्यात्मक बनाता है:

मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम के लिए केसर बहुत फायदेमंद है। दूध, चीनी और घी के साथ केसर का सेवन मानसिक रोगों जैसे कि शारीरिक लकवा, चेहरे का लकवा, साथ ही मधुमेह, लगातार सिरदर्द, हाथों और पैरों के सुन्न होने जैसी समस्याओं में लाभदायी है। केसर सम्मिलित कई प्रकार के एनर्जी ड्रिंक बाजार में उपलब्ध है।

आँखों के लिए फायदेमंद:

आजकल मोबाइल युग के इस समय में आँखों की समस्याएं आम बात होती जा रही हैं। यदि आप लगातार टीवी, कंप्यूटर या मोबाइल का प्रयोग करते हैं, तो यह आपकी आंखो की द्रष्टि पर बुरा प्रभाव डालता है। इसके लिए 10 केसर के रेशों को दूध में मिलाकर पीने से लाभ होता है। अगर असली चंदन को केसर के साथ घिसकर सर पर लगाया जायें तो आंखों की रोशनी बढ़ती है और सिर दर्द की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

प्रसव की अवधि में केसर:

image source

प्रसव के बाद गर्भाशय शोधन के लिए केसर को अजवाइन के साथ मिलाकर इसका सेवन करना फायदेमंद सिध्ध होता है। केसर, जीरा, गुड़ और अजवाइन को देसी घी के साथ मिलाकर सेवन करने से मां का दूध शुद्ध होता है और दूध अधिक मात्रा में बनता है। अगर प्रसव के बाद माता को 5 चम्मच नारियेल के दूध के साथ 10 केसर के रेशों में 2 चम्मच शहद मिलाकर सेवन कराया जाएं तो यह अधिक लाभदायी होता है।

हृदय रोग में फायदेमंद:

केसर का सेवन करने से ह्रदय से संबंधित बीमारियां ठीक हो जाती हैं। इससे ब्लड प्रेशर भी नियंत्रण में रहता है। धमनियों में रुकावट को रोकने के लिए काम करता है। केसर के सेवन से वजन कम होता है। इसके लिए 2 ग्राम अर्जुन की छाल, 2 ग्राम गिलोय, 2 ग्राम मुलेठी, 2 ग्राम पुष्करमूल, 2 ग्राम हल्दी, 2 ग्राम सौंफ, 2 छोटी इलायची, 1 ग्राम कलौजी और ¼ ग्राम केसर को कूटकर एकसाथ मिलाकर डेढ़ कप दूध तथा डेढ़ कप पानी में धीमी आंच पर उबालें। जब यह एक कप बचे, तब इसे छान ले और गुनगुना होने पर ही पियें।

बुद्धि वर्धक:

केसर का सेवन करने से याददाश्त बहेतर होती है। इसके लिए केसर के 10 रेशे, 1 चम्मच गाय का मक्खन, 1 चम्मच ब्राह्मी का रस और 1 चम्मच शंखपुष्पी के रस में शहद मिलाकर रोजाना सेवन करने से याददाश्त बढ़ती है। वर्तमान समय में कई तैयार ऊर्जा पेय बाजार में उपलब्ध हैं।

सर्दी और खांसी और बुखार में रामबाण:

केसर सर्दी-खांसी के साथ-साथ बुखार का भी रामबाण इलाज माना जाता है। यदि छोटे बच्चे को सर्दी या खांसी है, तो बच्चे को दूध में केसर मिला कर उसका सेवन करवाएं। अदरक के रस में केसर और हींग को मिलाकर बच्चे या बड़े के सीने पर लगाने से लाभ होता है।

इन्हें भी आज़माएं:

जिन लोगों को मूत्र विकार होता है, उन्हें पुनर्नवा के काढ़े के साथ केसर का सेवन करना लाभदायी है।

घाव को भरने के लिए केसर को घी या शहद में मिलाकर घाव पर लगाने से लाभ मिलता है।

माता के दाने (खसरा) होने पर केसर को अजवाइन और बड़ी इलाइची के छिलके के साथ उबाल लें फिर हलका गुनगुना कर ले और फिर रोगी को पिलायें, इससे इच्छित लाभ मिलेगा।

केसर का सेवन भोजन के उचित पाचन में मदद करता है और पाचन तंत्र को भी ठीक करता है। यह आंतों के संक्रमण को भी ठीक करता है। केसर के उपयोग से ह्रदय मजबूत होता है, और शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ता है। यदि पित्ताशय की थैली या यकृत में सूजन है, तो इसे पेट पर लेप करने से लाभ होता है।

सावधानी बरते:

इसका अधिक मात्रा में सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से पीठ दर्द, आंखों में जलन, उल्टी, पेशाब में जलन आदि समस्याए भी हो सकती हैं।

(नई दिल्ली नगरपालिका परिषद के आयुर्वेद विभाग के मुख्य चिकित्सा अधिकाति डॉ. एस. के. मालिक से की गई बातचीत पर आधारित)