वाह क्या किस्मत पाई है इन लोगोने कचरे से बन गए अमीर जानिए कैसे।

दोस्तों आपने यह कहावत तो सुनी होगी कि की एक व्यक्ति का कचरा किसी के लिए खजाना हो सकता हे शायद इस कहावत पर अप अभी यकीन नहीं करेंगे लेकिन हमारे आजके इस आर्टिकल के बाद हमारी बात पर विश्वास करने लगोगे हम सभी अकसर साफ सफाई करते वक्त कई बार बिना देखे कई चीजों को कचरे में फेंके देते हे ये हम लोगोंकी आदत होती है लेकिन कुछ खुश नसीब लोगो के के हाथ इन कचरे में कुछ ऐसी चिजे लग जाती है जो उनकी जिंदगी बदल देती है और वह रातो रात अमीर बन जाते हैं पर क्या आप यकीन करोगे की सफाई करने वाले को कचरे के ढेर ने ही करोड़पति बनाया अगर आपको यकीन नहीं हो रहा हे तो आज इस आर्टिकल मे हम आपको ऐसे ही कुछ बाते बताएंगे जिसमे कचरा उठाने वाले को रातो रात अमीर बना दिया था

एक एयरपोर्ट को साफ रखने के पीछे हजारों सफाई कर्मचारी दिन रात मेहनत करते हैं साउथ कोरिया के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उन हजारों सफाई कर्मचारियों में से ही एक की किस्मत हमेशा के लिए बदलने वाली थी यह सफाई कर्मचारी रोज की तरह कचरे को साफ कर रहा था इस सफाई कर्मचारी न्यूज़ पेपर मे लिपटे कुछ सोने की 7 इंटे मिली उन सभी ईटों का वजन 7 किलो था जिसकी कीमत करीब पोने तीन करोड़ थी लेकिन इस ईमानदार सफाई कर्मचारी ने ने सभी सोने की ईटों को एरपोर्ट के अफसरो को दे दिए इस पर पुलिसने अनुमान लगाया की शायद कोई गोल्ड बार की स्मगलिंग कर रहा था और पकड़े जाने के डर से उन्होंने इसे डस्टबिन मे फेक दिया क्रिमीनल केस दर्ज होने डरसे इस गोल्ड बार का मालिक सामने नही आया और इसकी वजह से इस सोने का मालिक यह सफाई कर्मचारी बन गया था इतना ही नहीं हररोज कचरा उठाकर चंद पेसे कमाने वाला यह सफाई कर्मचारी को कचरे में मिले गोल्ड ने रातोंरात अमीर बना दिया था

इसी तरह एक ओर एयरपोर्ट कर्मचारीको भी कूड़ेमे से सोना मिलता जिसकी वजह से उसे हर रोज कचरा साफ करने की जरूरत नहीं उस दिन कुछ हुआ यू था साफ सफाई करते हुए उस कर्मचारीको कचरे के डिब्बे में न्यूज़पेपर में कुछ ऐसी चीज मिली पहले तो उसे एसा लगाकी इतना भरी तो लोहा ही हो सकता हे इसीलिए उसने सोचा की वह उसे बेचकर कुछ पैसे कमाएगा इसलिए उसने बाकी समान से उसे अलग रखा घर जाकर उसने देखा तो उसमें 24 कैरेट गोल्ड बार थे उसकी कीमत तकरीबन 3 करोड़ रुपये थी

एक महिला को 1990 में एक गार्बेज के पाइप में एक बहुत ही डरावनी सी दिखने वाली डॉल मिली जिसे देखकर शायद हमे भूतिया फिल्म के सीन दिमाग में आते और हम वहा से भाग जाते लेकिन इसके बिलकुल विपरीत उस महिलाने इस डॉल को उठाकर अपने घर पर ले आई इस घटना के कुछ ही सालो बाद इस महिला की मौत हो गयी इसीलिए उसके पतीने सोचा की इस डॉल को बेचकर मुजे कितने पैसे मिलेंगे लेकिन उसने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि अनजाने में उसकी पत्नी ने उसके लिए बहोत बड़ा जेकपोट छोड़ा हे जब वह इस डॉल को लेकर एक एंटिक शॉपमे जाता हे तो उसे पता चलाकी यह कोई सामान्य डॉल नही हे बल्कि एक हेंड पेंटेड डॉल थी जिसे रोड आइलैंड की फेमस टॉयमेकर जाना वॉकर ने बनाया था जब इस डॉल की नीलामी की गयी तो एक खरीददार ने इस डॉल के लिए 14,112 डॉलर की बोली लगाई और उसे खरीद लिया

एकबार सालों से खाली पड़े घर में खेलते समय कुछ स्थानीय बच्चों को दीवारों के पास कई पुराने सिक्के मिले जब उनके माता-पिता को पता चला तो उन्होंने दीवार तोड़ दी और उसमें से सैकड़ों सिक्के पाये गए यह कोई मामूली सिक्के नही थे इनमें से निकले साधारण से दिखने वाले सिक्कों की कीमत सादे छे करोड़ रुपए थी

हम अक्सर कबाड़ी वाले को पुराने अखबार , पुरानी चीजें जैसे फर्नीचर और बर्तन देते हैं लेकिन उस दिन आए एक फोन कॉल ने इस कबाड़ी वाले की जिंदगी हमेशा के लिए बदल दी थी शायद वह नही जानता था कि चंद पैसे देकर खरीदी हुई 12 साल पुरानी जंग लगी हुई गाड़ी उसको करोड़पति बनाने वाली थी उसने सोचा इस पुरानी गाड़ी के वर्किंग पार्ट्स को बेचकर वह उससे कुछ पैसे कमा लेगा जब उसने टायर्स को गाड़ी से निकाला तो उसे काफी आश्चर्य हुआ कि इतनी पुरानी गाड़ी के टायर के अंदर हवा भरी हुई थी उसने उसको खोलने का सोचा और जैसे ही उसने उसके अंदर देखा तो टायर मे से पैसों के बंडल निकले जिसकी कीमत थी 10 लाख रुपए में और जैसे ही उसने बाकी तीनों टायरोको खोला तो उसे उसमे से 15,12 और ग्यारह लाख रुपे मिले लेकिन जब गाड़ी बेचने वाले इंसान को यह बात पता चली तो उसने इस गाड़ी को वापिस मांगने की कोशिश की इस पर केस भी चला उसके नतीजे मे कहा गया की वह सभी रुपयो का मालिक वह कबाड़ी वाला हे टायरो के अलावा गाड़ी की सीट में भी 45 लाख रुपए निकले जो कुल मिलाकर 93 लाख रुपए होते हे

लोग शायद सच कहते हैं की ऊपरवाला जब भी देता हे तो छप्पर फाड़ के देता हे शायद आप में से कई लोग जानते होंगे कि व्हेल मछ्ली की उल्टी ज्यादा कीमती है क्योकि व्हेल की उल्टी का इस्तेमाल बड़ी बड़ी कंपनी परफ्यूम बनाने के लिए करती हे लेकिन उसमें पहले एक केमिकल बदलाव किया जाता है जिसके बाद उससे बेहद अच्छी खुशबू आती है एकबार ओमान के एक मछुआरेको समंदर के किनारे 80 किलो है उल्टी मिली जिसकी वैल्यू लगभग 17 करोड रुपए थी

एकबार कार चलाते हुए इटालियन व्यक्ति की उनकी नजर एक कचरे के ढेर में पड़े एक बहुत ही सुंदर वायलिन पर पड़ी और उन्होंने सोचा कि वह इस वायलिन स्पेयर पार्ट्स को अपने घर पर पड़े पुराने वायलिन को रिपेयर करने के लिए यूज करेंगा लेकिन उसने कभी वायलिन को तोड़कर उसके स्पेयर पार्ट्स यूज़ नहीं किए और इसी वायलिन ने उसकी किस्मत बदल दी थी क्योंकि उसे पता चला कि वह वायलीन को एसा वेसा वायलिन नही था बल्कि 1922 का था जिसकी कीमत साडे तीन करोड़ रूपय थी इससे तो यही पता चलता है कि कभी कुछ कामों को टालने में ही फायदा है