क्या सचमे चप्पल और जूते से भी कोरोना वायरस फैलाते हैं?

कोरोना वायरस चप्पल और जूतों से भी फैलता है …?

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को चपेट में ले लिया है। दुनिया के कई अन्य देशों के साथ वर्तमान समय में भारत भी कोरोना से लड़ रहा है। अब जब देश में लोकडाउन की घोषणा की जा चुकी है, तो लोग अपने अपने घर में हैं। इस समय लोगों के मन में अजीब से सवाल भी उठ रहे हैं। यहां हम आपके लिए स्वास्थ्य संगठन, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और विशेषज्ञों द्वारा दिए गए कोरोना से संबंधित कुछ प्रश्न और जानकारी बता रहे हैं।

भारत में सोमवार दोपहर तक लगभग 44 हजार से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं।

सामाजिक दुरी के नियमों से कब तक राहत मिल सकती है?

image source

उत्तर: वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. के के अग्रवाल के अनुसार, कुछ निर्देशित शर्तों के पूर्ण होने के बाद ही इस तरह की राहत के बारे में उम्मीद रखी जा सकती है।

1. जब राज्य में नए मामलों की संख्या कम होने लगेगी।

2. हम बड़े पैमाने पर जांच करने में सक्षम हो जायेंगे।

3. जबकि चिकित्सको, नर्सों, अस्पताल के कर्मचारियों और संक्रमित लोगों की सेवा करने वालों के लिए पर्याप्त मात्रा में मास्क और पीपीई किट उपलब्ध हो पाएंगी।

टीका शरीर में वायरस के खिलाफ कैसे काम करता है?

image source

उत्तर: डॉ. एबेल लॉरेंस के अनुसार, टीका आम तौर से दो स्तरों पर काम कर सकता है। एक सुरक्षात्मक प्रोटीन का उत्पादन करके जिसे एंटीबॉडी कहा जाता है या फिर सुरक्षात्मक कोशिकाओ को जन्म देकर, जो वायरस से संक्रमित हुई कोशिकाओं को मारता है और शरीर से वायरस के अस्तित्व को भी समाप्त कर देता है। कुछ एंटीबॉडी संक्रमण के विषाक्त पदार्थों से चिपक कर उन्हें रोक सकते हैं।

चप्पल और जूते कोरोना वायरस फैलाते हैं?

उत्तर: अमेरिकी सीडीसी द्वारा जारी किए गए एक रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से यह कहा गया है कि कोरोना वायरस चप्पल और जूते के माध्यम से भी फैल सकता है। हालाँकि आपको बता दें कि यह रिपोर्ट विशेष रूप से अस्पताल के कर्मचारियों के जूतो पर आधारित थी। इसलिए सबसे अच्छा विकल्प यह है कि संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहने वाले व्यक्ति को भी वार्ड / कमरे से बाहर निकलने से पहले अपने जूते को साफ (सेनिटाइज़) कर लेना चाहिए। और लोगों भी को घर में प्रवेश करते समय अपनी चप्पल और जूते बहार उतार देने चाहिए।