छाछ के गंभीर नुकसान – जानीए छाछ कैसे और कब पीए

छाछ से हो आप की सेहत के लीए हो सकती है खतरा

छाछ के गंभीर नुकसान – जानीए छाछ कैसे और कब पीए

अब गरमी की सीझन शुरु होने जा रही है औ एसे समये अगर हमे दोपहर के खाने के साथ छाछ मील जाए या फीर गरमी से राहत पाने के लीए अगर आप शाम को छाछ पीते है तो आपको ठंड का एहसास होने लगता है और सुकुन भी मीलता है.

image source

हमारे भारत में बहोत से ऐसे राज्य है जहां भोजन के साथ छाछ तो चाहीए ही चाहीए. वेसे तो छाछ के बहुत सारे लाभ है, जैसे के छाश हमारी इम्युन सिस्टम को शक्ति प्रदान करता है, और इस तरह से हमे बहुत सारी बीमारीओ से दूर रखती है, इसके अलावा हमारे पाचन को भी सुधारती है. पर अगर हम छाश कुछ हद से ज्यादा पी लेते है तो वह हमे नुकसान करती है. उसके कई साइइफेक्ट्स भी है. तो आज हम इस नुकसान के बारे में आपको बताने जा रहे है.

छाछ पीने के नुकसान

image source

– छाछ पचने में बीलकुल हलकी होती है. कब्ज जैसी पेट की बीमारीओं में भी छाछ मदद करती है. पर वह हड्डीओं के लीये नुकसानदेह होती है.

– छाछ के सेवन से जोडों के दर्द में बढोतरी होती है.

– हद से ज्यादा छाछ का सेवन करने सै मांसपेशीयां और नसों में रक्त के बहाव को रोक सकती है.

image source

– वैसे तो गरमी की सीझन में छाश हमारे शरीर को लाभ करती है, क्युं की वह हमारे पाचनतंत्र को सुचारु रुपसे चलने में मदद करती है. पर अगर इसका हद से ज्यादा सेवन कीया जाये तो वह नुकसान देह हो सकती है. क्युं की छाछ की तासीर ठंडी होती है उस के साथ ही वह खट्टी भी होती है फीरभी उसका एक हद से ज्यादा सेवन नहीं करना चाहीए.

– जीन लोगों को सीने में जलन होती है और बार बार एसीडीटी की समस्या रहती है और खट्टी ढकार आती है उनको भी छाछ का प्रयोग नहीं करना चाहीए.

 

image source

– जीन लोगों को मुह में छाले और रक्तस्त्रावी रोगों की समस्या रहती है उन्हे कभी भी छाछ का प्रयोग नहीं करना चाहीए.

– जीन लोगो को सांस की परेशानी रहेती है उनको छाछ से परहेझ करना चाहीए. एसा करने से उनकी परेशानी बढ सकती है.

– छाछ का सेवन ठंड की सीझन में नहीं करना चाहीए पर गरमी की सीझन में आप छाछ पी सकते है. और छाछ को दोपहर के 2 बजे के बाद नहीं पी सकते. शाम के समय छाछ पीने से जोडों का दर्द बढ जाता है. सीर भी दर्द कर सकता है.

– जीन लोगों को पित्त की समस्या रहती है उन्हे खट्टी छाछ नहीं पीनी चाहीए. ओर जीन लोगों की प्रकृति ठंडी होती उनको भी छाछ पीने से झुकाम हो सकता है.