वजन घटाने की कहानी : बिना आहार के 43.5 किलो वजन कम किया, जानिए कैसे

वजन घटाने की कहानी : इस बैंकर ने बिना आहार के 43.5 किलो वजन कम किया, जानिए कैसे – इस फिटनेस जर्नी में यह कहानी है 36 वर्षीय रेणुका पमनानी की, जिन्होंने अपना वजन कम करने के लिए अपनी पूरी शक्ति लगा दी। आइए जानें कि वजन कम करने के लिए उन्होंने अपने दैनिक जीवन में क्या बदलाव किए।

इन दिनों मोटापा एक आम समस्या है जिससे कई लोग जूझ रहे हैं। अनियमित जीवनशैली और खान-पान के कारण वजन बढ़ना आम बात है। लेकिन अगर आपका मनोबल दृढ़ हैं, तो वजन कम करना पहले जितना मुश्किल हुआ करता था उतना मुश्किल आज नहीं है ।

image source

पेशे से सामान्य बैंकर और 36 वर्षीय रेणुका पमनानी का वजन समय के साथ 127 किलोग्राम तक पहोच गया था। फिर उन्होंने अपनी जीवन शैली को बदल कर केवल ढाई साल में 43.5 किलोग्राम वजन कम कर लिया। वर्तमान में उनका वजन 83.5 किलोग्राम है। इसलिए आज हम उनसे जानते हैं कि रेणुका ने वजन कम करने के लिए क्या किया।

मैंने वजन कम करने का फैसला किया?

रेणुका कहती हैं कि उनका वजन लगातार बढ़ता जा रहा था और एक समय आया जब मेरा वजन 127 किलो हो चूका था। जैसे-जैसे मेरा वजन बढ़ने लगा, मेरा आत्मविश्वास कम होने लगा और मुझे इस बात की चिंता होने लगी कि क्या में अपना जीवनसाथी ढूंढ पाऊँगी या नहीं। मैं घर में सबसे छोटी थी इस लिए मुझे बहुत प्यार मिला। लेकिन मैंने यह कभी नहीं सोचा था कि मेरा वजन तीन आंकड़ों तक पहुंच जायेगा। मुझे पता था कि यह आसान तो नहीं होगा, लेकिन अंत में मैंने अपना वजन कम करने का फैसला कर लिया। मेरी डायटीशियन ख्याति रूपानी और फिटनेस कोच राकेश पवार ने मेरी बहुत मदद की।

रेणुका द्वारा उपयोग में लिया गया डायेट प्लान :

  • – ब्रेकफास्ट : ओट्स, टोस्ट के साथ अंडे की सफेदी, इडली, डोसा
  • – लंच : एक कटोरी सलाद, दाल, चिकन, 1 रोटी या चावल, सब्जी
  • – डिनर : ग्रिल्ड चिकन, पनीर, होल ह्वीट पास्ता
  • – प्री : वर्कआउट मील- बुलेट कॉफी
  • – पोस्ट : वर्कआउट मील- डायमेटाइज आईएसओ 10 हाइड्रोलाइज्ड प्रोटीन पाउडर
image source

मोटिवेशन से मनोबल कैसे टिका रहता है।

जब आप हर दिन जिम जाते हैं और पसीना बहाते हैं और एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करते हैं, तो लंबे समय तक उसका पालन करने के लिए एवं मनोबल को बनाए रखने के लिए प्रेरणा की आवश्यकता होती है। व्यायाम करते समय शरीर से खुशी के हार्मोन सर्जित होते हैं। इतनी मेहनत करने के बाद, जब शरीर में फर्क दिखता है और वजन कम होने लगता है, तो बहुत ख़ुशी होती है। वजन बढ़ते ही सबसे पहले आत्मविश्वास तुटने लगता है, और कपड़े सिकुड़ने लगते हैं। जब हम बाहर जाते हैं तो लोग अजीब नजरों से हमें देखते हैं। मोटापे से शरीर में हमेशा सुस्ती रहेती है। इतना ही नहीं वजन बढ़ने से पीसीओडी, जोड़ों का दर्द, मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्रॉल जैसी गंभीर समस्याएं भी हो सकती हैं।

इसके अलावा, रेणुका ने लगभग ढाई साल तक व्यायाम और जीवनशैली में बदलाव का पालन किया। लगभग ढाई साल में रेणुका ने 43.5 किलोग्राम वजन कम किया। परिणामस्वरूप, उसने अपना खोया हुआ आत्मविश्वास भी वापस पा लिया।

जीवनशैली में क्या बदलाव करना पड़ा?

इस सवाल के जवाब में रेणुका कहती हैं कि वजन कम करने के लिए पौष्टिक आहार के साथ-साथ संतुलित आहार लेना भी उतना ही जरूरी है। मैंने केवल पौष्टिक भोजन कम मात्रा में खाया और बाजार में मिलने वाली चीजों से परहेज कर लीया। मैंने अपने दैनिक जीवनचक्र में व्यायाम के लिए भी वक्त दिया। साथ ही मैं रोजाना कम से कम 3 लीटर पानी पिया करती थी।