सेना के जवान ने २०० डोलर देकर मंगवाई देश की मिट्टी, बच्चे ने उस पर रखा पहेला कदम

सेना के जवान ने २०० डोलर देकर मंगवाई देश की मिट्टी, बच्चे ने उस पर रखा पहेला कदम

देश की मिट्टी की कीमत एक सेना के जवान से अधिक कोन समज शकता है, जो देश की सुरक्षा के लिए अपना जीवन तक कुर्बान करने के लिए हर पल तैयार रहता है। जब सामान्य लोग अपने अपने घरो में शांति से घर में सो रहे होते है तब भी सेना के जवान अपने देश को सलामत रखने के लिए बोर्डर पर जाग रहे होते है। रात का अँधेरा भी उनकी आँखों की पलको को नहीं झुका शकता। आज हम आपको सेना के एक एसे ही जवान के बारे में बताने जा रहे है, जिन्होंने वो काम कर दिया है जिसके बारे में आपने कभी सोचा तक नहीं होगा।

image source

पूरा वाकिया अभी कुछ दिन पहेले का ही है। लेकिन अब भी यह घटना लोगो को ज्यादा भावुक कर रही है। बात कुछ इस तरह से है की अमरीकी पेराट्टूपर सेना में काम करने वाले जवान टोनी ट्रेको चाहते थे की उनकी संतान द्वारा जन्म लेने के बाड अपना पहला कदम अपने ही देश की मिट्टी पर पड़े।

पहले तो टोनी चाहते थे की उनकी पहेली संतान का जन्म अपने देश की मिट्टी पर ही हो, लेकिन पत्नी के गर्भवती होने के बाद उनकी पोस्टिंग इटली के पंडू शहर में हो गई। उसे आशा थी की अपनी संतान के जन्म से पहले वह अमेरिका जरुर जा शकेगा लेकिन ऐसा कुछ न हो शका। जिसके कारन टोनी ने कुछ ऐसा काम कर दिया जिस बारे में किसीने सोचा भी नहीं होगा, और उसे जानने के बाद हर कोई हैरत में पड गया।

फिर से अमेरिका ट्रांसफर न मिलने के कारन टोनी ने अपनी संतान के जन्म से पहले ही २०० डोलर का खर्च कर अपने देश अमेरिका के टेक्सास से वहां की मिट्टी मंगवा ली। जिस से की जब भी उसकी पहेली संतान दुनिया में आये, उसका प्रथम कदम वह अपने ही देश की मिट्टी पर रख शके।

मिट्टी को मंगवाने के लिए टोनी ने टेक्सस में रहेने वाले आपने माता-पिता से सम्पर्क किया। उन्होंने बेटे के आग्रह अनुसार मिट्टी को कंटेनर में भरकर इटली भेज दी, जिसके लिए उसे २०० डोलर (१४,००० रुपए) का खर्च करना पड़ा था। अपनी संतान के जन्म के वक्त टोनी ने हॉस्पिटल में बेड के निचे मिट्टी को रख दिया, जिससे बच्चे का जन्म देश की मिट्टी पर ही हुआ गिना जायें।

टोनी ने कहा की ‘पिछले वर्ष जुलाई माह में मेरे बेटे चार्ल्स का जन्म हुआ था और मेने उसके बारे में टविट भी किया था। चार्ल्स के जन्म के बाद भी मेने उस मिट्टी को संभाल के रखा है और पिछले दिनों में उसके पैरो का प्रथम स्पर्श कर मुझे अपने वतन का अनुभव हुआ था, और उसके लिए अगर मुझे कोई भी कीमत चुकानी पड़े तो उसके लिए में तैयार था’